बद्रीनाथ के कपाट खुलने पर मुख्यमंत्री और पर्यटन मंत्री ने दी बधाई
Friday, 15 May 2020 11:37

  • Print
  • Email

चमोली: बद्रीनाथ धाम के कपाट शुक्रवार को ब्रह्म मुहूर्त में खुल गए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने श्रद्धालुओं को बधाई दी है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा, "बद्री विशाल के कपाट आज प्रात: ग्रीष्म काल के लिए खुल गए हैं। भगवान बद्रीनाथ के प्रति आस्था रखने वाले श्रद्धालुओं को बधाई।"

उन्होंने उम्मीद जताई कि जल्द ही कोरोना महामारी खत्म हो जाएगी।

उन्होंने कहा, "बुजुर्गों का ख्याल रखें। इस महामारी से बचने का सबसे बड़ा महामंत्र है कि सभी लोग मास्क लगाकर चलें और दूरी बनाकर रहें। बाहर से आने वाले लोग 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन में रहें।"

प्रदेश के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने भी बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने पर बधाई दी है। उन्होंने कहा कि भगवान बद्री विशाल के कपाट खुलते ही अब उत्तराखंड के चारों धामों के कपाट खुल गए है। विधायक बदरीनाथ और उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के सदस्य महेंद्र भट्ट और विधायक गंगोत्री और देवस्थानम बोर्ड सदस्य गोपाल सिंह रावत ने भी धाम के कपाट खुलने पर खुशी जताई।

पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर के अनुसार, अब आगे पर्यटन, तीर्थाटन को गति देने के लिए शासन स्तर पर निरंतर कार्य जारी है। उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के सीईओ गढ़वाल आयुक्त रमन रविनाथ ने बताया कि धाम के कपाट खुलने के दौरान देवस्थानम बोर्ड ने उच्च स्तरीय दिशा-निर्देशों का पालन सुनिश्चित किया।

इस बार बद्रीनाथ पुष्प सेवा समिति ऋषिकेश के दान-दाताओं के सहयोग से बद्रीनाथ धाम को दस क्विंटल फूलों से सजाया। मंदिर से सटे पुराने पुल से लेकर मुख्य मंदिर परिसर तक को विभिन्न पुष्पों और तोरण से सजाया। धाम में लॉकडाउन पूरी तरह लागू है। दुकानें, होटल, ढाबे, आश्रम आदि बंद है। निकटवर्ती गांवों बामणी और माणा में भी आवाजाही नहीं है। तप्त कुंड, ब्रह्म कपाल के साथ ही स्नान घाट भी शांत है अलकनंदा नदी का धीमा स्वर सुनाई दे रहा है।

देवस्थानम बोर्ड के मीडिया प्रभारी डॉ़ हरीश गौड़ ने बताया कि बदरीनाथ सिंह द्वार, मंदिर परिसर, परिक्रमा स्थल, तप्त कुंड के साथ ही विभिन्न स्थानों को लगातार सैनिटाइज किया जा रहा है। वहां मौजूद लोगों ने भगवान बद्रीनाथ से कोरोना संकट से निजात दिलाने की कामना की।

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss