बीआर शेट्टी को बेंगलुरु एयरपोर्ट पर अबू धाबी की फ्लाइट में बैठने से रोका
Monday, 16 November 2020 13:48

  • Print
  • Email

बेंगलुरु: भारतीय मूल के यूएई व्यवसायी बी.आर. शेट्टी को भारत से यूएई लौटते वक्त बेंगलुरु एयरपोर्ट पर इमीग्रेशन अधिकारियों ने रोक दिया। खलीज टाइम्स ने अपनी खबरों में लिखा है कि शेट्टी 8 महीने बाद भारत से यूएई लौटने की कोशिश कर रहे थे। खबर में कहा गया है कि शेट्टी और उनके व्यापारिक साम्राज्य पर अरबों डॉलर की कथित वित्तीय अनियमितताओं और धोखाधड़ी के आरोप हैं।

शनिवार की सुबह शेट्टी ने एतिहाद की फ्लाइट ईवाय217 से अबू धाबी जाने की कोशिश की, जिसे उन्होंने 'संयुक्त अरब अमीरात से किए गए वादे के अनुसार वापसी' बताया। इससे पहले एयरपोर्ट से खलीज टाइम्स से बात करते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें यूएई की न्याय प्रणाली पर पूरा भरोसा है।

इमिग्रेशन अधिकारियों द्वारा रोके जाने के बाद शेट्टी ने खलीज टाइम्स से बात करते हुए कहा कि उनकी पत्नी चंद्रकुमारी शेट्टी को शनिवार की रात 2.45 बजे रवाना होने वाली और सुबह 5.40 बजे अबु धाबी पहुंचने वाली फ्लाइट में सवार होने की अनुमति थी।

पता चला है कि शेट्टी के बैंक ऑफ बड़ौदा के 250 मिलियन डॉलर के बकाया ऋण समेत कई भारतीय बैंकों के एक संघ ने ऋणों को वसूलने के प्रयास में एनएमसी के संस्थापक पर यात्रा प्रतिबंध लगाने की मांग की शुरूआत की थी। फेडरल बैंक समेत कई अन्य भारतीय बैंकों का शेट्टी द्वारा संचालित फर्मों से काफी संपर्क है।

एक भारतीय अदालत पहले ही शेट्टी और उनकी पत्नी को उन संपत्तियों को बेचने पर प्रतिबंध लगा चुकी है, जिन्हें लेकर बैंक ऑफ बड़ौदा ने दावा किया था कि उन्हें ये संपत्तियां सुरक्षा गारंटी के रूप में दी गई हैं।

फरवरी से अबू धाबी से बाहर रह रहे अरबपति उद्यमी ने शनिवार की शाम को कहा था कि वह यात्रा प्रतिबंध हटवाने की कोशिश कर रहे हैं और यूएई अधिकारियों और सभी संबंधित निकायों के जरिए 'कुछ दिनों के भीतर अबू धाबी' लौटने की उम्मीद कर रहे हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, कुछ हफ्ते पहले शेट्टी ने भारतीय एजेंसियों से कथित तौर पर अपनी कंपनियों के पूर्व शीर्ष अधिकारियों द्वारा की गई धोखाधड़ियों की जांच करने की मांग की थी।

--आईएएनएस

एसडीजे-एसकेपी

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss